फिर बढ़ेगा लॉकडाउन? बढ़ते कोरोना पर जानिये क्या कह रही हैं राज्य सरकारें

एक तरह जहाँ देश में कोरोना वायरस अपने पैर पसारते जा रहा है वहीँ सरकारें इस चिंता में फंसी हुई है कि लॉकडाउन बढाया जाय या नही? कुछ राज्य सरकारें तो अपने यहाँ बढ़ते कोविड-19 मामलों के बीच ये एलान कर दिया है कि वे लॉकडाउन नही बढ़ाएंगे. ये एलान ऐसे समय में है जब शहर ने कोरोना संक्रमितों के मामले में मुंबई को भी पीछे छोड़ दिया है. आइये इसी पर बात करते हैं कि किन राज्यों ने लॉकडाउन को बढाने का फैसला लिया है और किन राज्यों ने कोरोना वायरस से बेहद प्रभावित होने के बावजूद लॉकडाउन ना लागू करने का फैसला लिया है.

सबसे पहले बात करते हैं झारखण्ड की
झारखण्ड में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. हालाँकि यहाँ की रफ़्तार उतनी तेज नही है जितनी अन्य प्रदेशों की… लेकिन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सरकार ने लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ाने का फैसला किया है.

पश्चिम बंगाल
पश्चिम बंगाल में कोरोनावायरस से संक्रमितों की संख्या इजाफा देखने को मिल रहा है. वहीँ ममता बनर्जी की सरकार ने राज्य में लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला किया है. हालाँकि इस दौरान कुछ छूट देने की बात भी कही गयी है. बनर्जी ने कहा, ‘हमने तय किया है कि (एक जुलाई से) रात्रि कर्फ्यू रात 10 से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा. हम चाहते हैं कि सभी ऐहतियाती कदम उठाते हुए एक जुलाई से मेट्रो सेवाएं शुरू की जाएं. इस दौरान केवल बैठकर ही यात्रा की जाए.’ फिलहाल पश्चिम बंगाल में रात्रि कर्फ्यू की अवधि रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक है.

Source-Business Today

असम
असम में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या को बढ़ता देख राज्य सरकार परेशान है. इसके बाद लॉकडाउन और आगे तक बढ़ाए जाने का फैसला लिया गया है. असम के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने कहा कि “गुवाहाटी में 15 जून से अब तक कोरोना वायरस के 762 मामले सामने आ चुके हैं और उनमें से 677 ने हाल में कोई यात्रा नहीं की थी. कई लोग राज्य में बाहर से लौटे संक्रमित लोगों के संपर्क में आने से संक्रमण के शिकार हुए होंगे. गुरुवार को सामने आए संक्रमण के 276 मामलों में से 133 गुवाहाटी से थे. हमारे पास अब 28 जून की आधी रात से 14 दिन के लिए संपूर्ण लॉकडाउन लागू करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है. इस बार हम और कड़ाई करेंगे और पहले सात दिन तक सब्जी और किराना की दुकानें नहीं खोली जाएंगी”.

तेलंगाना
हैदराबाद के बेगम बाजार के आस पास 400 से अधिक मामले सामने के बाद यहाँ के लोगों की चिंताएं बढ़ गयी है. दरअसल बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए शहर के किराना कारोबारी संघ की एक आपात बैठक बृहस्पतिवार को हुई जिसमें बाजार को आठ दिन के लिए बंद रखने का फैसला लिया गया है.

तमिलनाडु
राजधानी समेत कई और शहरों में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए 12 दिन के लिए लॉकडाउन का एलान किया गया है. राजधानी चेन्नई समेत मदुरै और चेंगलपेट, कांचीपुरम और तिरुवल्लुर जिले शामिल है. आपको बता दें कि चेन्नई राज्य का सबसे प्रभावित जिला है और यहाँ अब तक करीब 700 लोगों की जान कोरोना वायरस के चलते जा चुकी है.

Source-Deccan Herald

दिल्ली
वैसे तो दिल्ली इस वक्त कोरोना संक्रमण से प्रभावित शहरों में सबसे पहले नंबर पर है. इसके बावजूद दिल्ली में लॉकडाउन को बढ़ाने से केजरीवाल सरकार ने पहले ही इनकार कर दिया था. वहीँ आज स्थिति ये है कि दिल्ली भारत का सबसे प्रभावित राज्य बन चुका है. गृह मंत्रालय के सहयोग से दिल्ली में कोरोना से लड़ने की कोशिश की जा रही है लेकिन दिल्ली का हाल बेहाल हो चुका है.

कर्नाटक
कर्नाटक की सरकार साफ़ कर दिया है कि कोरोना से लड़ाई के लिए हर संभव प्रयास किये जायेंगे लेकिन अब कोई लॉकडाउन नही लगाया जाएगा. मतलब कोरोना वायरस संक्रमण के बीच में ही विकास संबंधित कार्य लगातार जारी रहेंगे.

हालाँकि सभी देशवासियों को ये बात समझ लेनी चाहिए कि लॉकडाउन रहे या नहीं, लेकिन हमें कोरोना से खुद को बचाना है, खुद नियमों का पालन करना है, खुद सोशल डिस्टेंसिंग रखनी है.. दूसरों को ज्ञान देने का वक्त खत्म हो रहा है. अगर आप नियमों का पालन करेंगे तो आप सुरक्षित बच सकेंगे!