वायरल वीडियो मे दावा किया जा रहा है कि कोरोना पीड़ित जिंदा इंसान का किडनी और गुर्दा निकाल लिया, जानिए क्या है सच्चाई

सोशल मीडिया में इस समय एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है. वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो नागपुर के मेडिकल हॉस्पिटल का है जहां कोरोना पीड़ित जिंदा इंसान का पोस्टमार्टम कर किडनी और गुर्दा निकाल लिया गया है. इसके बाद पीड़ित के परिवार जन वहां पर हंगामा कर रहे हैं. वीडियो में देखा जा सकता है कि कुछ लोग अस्पताल के अंदर हंगामा कर रहे हैं. यह लोग वहां के स्टाफ को भी भला-बुरा कहते हुए सुने जा सकते हैं.

क्या है वायरल वीडियो

ट्वीटर पर अत्मनिर्भर भारत नाम के यूजर ने 16 अगस्त को एक वीडियो अपलोड किया है. इस वीडियो को शेयर कर दावा किया गया है कि- नागपुर का मेडिकल ह़स्पिटल कोरोना से मोत का बहाना रियल मैं कर डाला जींदे का ही पोस्ट मार्टम. ओऱ किडनी गुर्दा सब निकाल लिए गए. #सावधान_इंडिया #COVID19 #COVID19INDIA

वीडियो में दिख रहा है कि काफी लोग एक डेड बॉडी के पास इकट्ठा हैं. वह जोर-जोर से चिल्लाते हुए कह रहे हैं कि किडनी गुर्दा सब निकाल लिया. वह डॉक्टर को भी भला-बुरा कह रहे हैं.

वायरल वीडियो की पड़ताल

वायरल वीडियो का पड़ताल करने पर सामने आया कि यह वीडियो एएनआई के ट्वीटर हैंडल पर 21 जुलाई 2020 को अपलोड किया गया था. इस वीडियो के साथ कहा गया है कि 19 जुलाई को मुबंई के कूपर अस्पताल में इलाज के दौरान मरीज की मौत के बाद परिजनों ने हंगामा कर दिया. देखिए वीडियो-

इसके अलावा पड़ताल के दौरान जागरण न्यूज पर एक खबर मिली. 22 जुलाई को इस खबर को प्रकाशित किया गया था. इसमें बताया गया है कि मुबंई के कूपर अस्पताल मरीज की मौत के बाद परिवार को लोगों ने गुस्से में जमकर हंगामा किया.

 

इंडिया टीवी के यूट्यूब चैनल पर भी यह खबर मिली जिसमें बताया गया है कि मुबंई के कूपर अस्पताल के डॉक्टर के इंजेक्शन लगाने के तुरंत बाद मरीज की मौत हो गई.

क्या है सच्चाई

वीडियो के पड़ताल मे यह खबर पूरी तरह से फर्जी पाई गई. दरअसल मुबंई के कूपर अस्पताल में हुई एक मौत के वीडियो को नागपुर के हॉस्पिटल का बता कर गलत दावा किया जा रहा है कि कोरोना मरीज की किडनी या गुर्दी निकाल लिया. इस खबर का नागपुर के अस्पताल से कोई संबंध नही है और यह खबर पूरी तरह से फेक है.