चीनी नागरिक ने मणिपुर की लड़की से कर ली शादी, वजह जान कर भारत सरकार के होश उड़ जायेंगें..

भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा पर तनाव इस समय चरम है. इस बीच भारत में रहकर हवाला कारोबार चला रहे चीनी कनेक्शन को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. भारत में चीनी नागरिक 1000 करोड़ रुपये का अवैध कारोबार चला रहे थे. गौर करने वाली बात यह है कि उनके पास से भारतीय पासपोर्ट बरामद किया गया है और यह मणिपुर के पते पर बनाया गया है. इसके अलावा पकड़े गए चीनी नागरिक ने जो खुलासे किए हैं उससे भारत सरकार के होश उड़ जायेगें. आयकर विभाग ने जिस चीनी नागरिक लोउ सांग को हिरासत में लिया है उसने पूछताछ में बताया है कि वह भारत में पहचान बदलकर रह रहा था. उसने बताया कि पासपोर्ट हासिल करने के लिए मणिपुर की लड़की से शादी भी कर चुका है.

भारत में अवैध कारोबार चला रहे चीनी नागरिक गिरफ्तार

सीमा विवाद को लेकर चीन से चल रहे तनाव के बीच एक बड़ी खबर आई है. चीनी नागरिक हवाला के जरिए भारत में अवैध कारोबार कर रहे थे. यह हवाला कारोबार 1000 करोड़ रुपये से अधिक का बताया जा रहा है. हवाला औऱ मनी लॉन्ड्रिंग के खुलासे को लेकर इनकम टैक्स ने दिल्ली, गाजियाबाद और गुरुग्राम में 24 ठिकानों पर छापेमारी की है. यह अवैध कारोबार चीनी नागरिक कुछ भारतीयों के साथ मिलकर कर रहे थे. बता दें कि चीनी ऐप्स पर पाबंदी लगाने के बाद भारत सरकार की चीन के नागरिकों द्वारा चलाए जा रहे अवैध कारोबार पर यह पहली बड़ी कार्रवाई है. इससे पहले भारत मे काम कर रही चीनी कंपनियों को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था.

नाम बदलकर फर्जी पास पोर्ट हासिल किया

इस हवाला कारोबार में शामिल चीनी नागरिक लुओ सैंग ने फर्जी नाम चार्ली पेंग के नाम से पासपोर्ट बनवा रखा था जबकि बाकी चीन के नागरिक भारत में वीजा पर रह रहे थे. हवाला कारोबार में शामिल गिरोह के बाकी आरोपियों को इनकम टैक्स ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें से ज्यादातर चीनी नागरिक है जों वीजा पर भारत आए थे औऱ इस हवाला कारोबार में शामिल थे.

लुओ सैंग ने मणिपुर की लड़की से की शादी

आयकर विभाग द्वारा पकड़ा गया चीनी नागरिक लोउ सांग न केवल भारत मे पहचान बदलकर रह रहा था बल्कि उसने मणिपुर की एक लड़की से शादी भी कर चुका है. कहा जा रहा है कि यह घोटाला करीब 3 साल से चल रहा था, जिसमें कई फर्जी कंपनियां बनाई गई. आरोपी बचने के लिए बार-बार अपना पता बदल देता था वह पहले दिल्ली के द्वारका में रुका था औऱ फिर डीएलएफ इलाके में रहने लगा था. माना जा रहा है कि संदिग्ध के पास करीब 40 बैंक अकाउंट हैं. जिसमें से वह हवाला के जरिए हर रोज 3 करोड़ रुपये निकालता था.

बता दें कि खुफिया एजेंसियों को जानकारी मिली थी कि चीन के लोग भारत में बैंक अधिकारियों औऱ चार्टेड एकाउंटेट के साथ मिलकर हवाला और मनी लॉड्रिंग का कारोबार चला रहे हैं. इसी आधार पर IT की टीम ने दिल्ली, गाजियाबाद औऱ गुरुग्राम में चीनी नागरिकों के 24 ठिकानो पर छापेमारी की थी.