चीनी सैनिकों की बड़ी कोशिश नाकाम, भारतीय सैनिकों ने पैंगोग झील के पास वाली जगह को वापस अपने कब्जे में लिया

भारत औऱ चीन के बीच अभी भी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव बरकरार है. पूर्वी लद्दाख के आस-पास वाली जगहों पर दोनो देश लगातार आपनी सेनाओं की क्षमता बढ़ा रहे हैं. इस बीच इसी सीमा के पास चीन की सेना ने नई चाल चलते हुए 29 और 30 अगस्त की रात को पैंगोंग सो के दक्षिणी किनारे पर घुसपैठ करने की कोशिश की लेकिन भारतीय सैनिकों ने अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुए चीनी सैनिकों को पीछे खदेड़ दिया. बता दें कि  LAC  पर तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए भारतयीय सेना की विकास रेजिमेंट को पैंगोंग लेक के दक्षिणी तट पर तैनात किया गया है.

 पूर्वी लद्दाख का पैंगोल झील
Photo-amarujala.com

चीन की योजना बड़ी नाकाम

चीन की सेना ने एक बार फिर वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारतीय क्षेत्र में घुसने की कोशिश की है. भारतीय सेना के अनुसार करीब 500 चीनी सैनिक 29-30 आगस्त की रात को एलएसी पर भारतीय क्षेत्र मे घुसने की कोशिश कर रहे थे. हालांकि पहले से ही सतर्क भारतीय सेना के जवाऩों ने  उन्हें आगे नही बढ़ने नही दिया और पीछे की ओर धकेल दिया.

Also read-  China’s eight top commanders behind Galwan valley violence

दरअसल चीनियों का इरादा उस ऊंचाई पर कब्जा जमाना था जिससे झील और आसपास के दक्षिणी तट को नियंत्रित करने में रणनीतिक रुप से बड़ा लाभ मिल सकता था. भारत को इसका पहले से ही आभास हो गया था और वहां पर तुरंत ही सेना की टुकड़ी को तैनात किया गया. क्षेत्र में कब्जा जमाने के प्रयास के तहत बड़ी संख्या में चीनी सैनिक पैंगोग सो के दक्षिणी किनारे की ओर बढ़ रहे थे लेकिन भारतीय सैनिकों न उनके प्रयास को विफल कर दिया.

पूर्वी लद्दाख का पैंगोल झील
Photo-in.tosshub.com

खबर के अनुसार इस दौरान भारतीय सैनिकों ने ऊंचाई वाली जगह थाकुंग के पास पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी तट को अपने कब्जे में ले लिया. यह जगह निष्क्रिय पड़ी थी, जिसे भारतीय सेना के विशेष बल ने वापस अपने कब्जे में ले लिया है. इस दक्षिणी तट के भारतीय कब्जे में होने के बाद भारत को इसका रणनीतिक लाभ मिल सकता है.

Also Read-  China’s eight top commanders behind Galwan valley violence

उधर चीन ने भारत की इस कार्रवाई का विरोध किया है. उसने कहा कि भारत को तनाव से बचने के लिए इस जगह से अपने सैनिकों को वापस बुला लेना चाहिए. चीन का कहना है कि भारत ने कमांडर और राजनयिक स्तर पर हुई सहमति का पालन नही किया औऱ LAC पर चीन के इलाके में 4 किलोमीटर अंदर घुस गई है.