Home न्यूज़ गलवान झड़प के बाद नेपाल की 150 हेक्टेयर जमीन निगल गया पड़ोसी...

गलवान झड़प के बाद नेपाल की 150 हेक्टेयर जमीन निगल गया पड़ोसी देश चीन, बना रहा बड़ा सैन्य अड्डा

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में हुए हिंसक झड़प के बाद चीन नेपाल को धता बताते हुए 150 हेक्टोयर जमीन हड़प लिया है. चीन ने गलवान घाटी और फिर भारत और नेपाल के बीच कुछ समय पहले हुए मतभेद का फायदा उठाते हुए 5 मोर्चों पर इस साल मई महीने में नेपाल की जमीन पर कब्जा कर लिया है. नेपाली नेताओं के अनुसार जमीन पर कब्जा करने के लिए चीन ने सीमा पर PLA तैनात करना शुरु कर दिया था. हालांकि चारों ओर से घिर रहे चीन ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा है कि यह पूरी तरह से निराधार और अफवाह है.

नेपाली जमीन पर चीन का कब्जा
Photo-amarujala.com

नेपाल की 150 हेक्टेयर जमीन पर चीन का कब्जा

भारत से तनावपूर्ण माहौल के बीच चीन ने नेपाल से भी रिश्ते बिगाड़ने में कोई कसर नही छोड़ी है. राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने आक्रामक विदेश नीति अपनाते हुए नेपाल की 150 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा कर लिया है. खबर के अनुसार चीन ने नेपाल के लिमी घाटी में 30 हेक्टेयर और हुमला घाटी में 70 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा कर लिया है. इन जगहों पर चीन के सैनिक पिलर को उखाड़कर उसे नेपाली क्षेत्र में और अंदर लगा दिया है. इस जमीन पर चीनी सैनिक कई इमारतें और सैन्य ठिकानों का निर्माण कर रहे हैं.

नेपाली जमीन पर चीन का कब्जा
Photo-navbharattimes.indiatimes.com

ब्रिटिश अखबार का दावा

ब्रिटेन के अखबार द टेलीग्राफ ने नेपाली नेताओं के हवाले से एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी. इस रिपोर्ट मे दावा किया गया था कि चीन ने नेपाल के हुमला जिले में 150 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा कर लिया है. इतना ही नही चीन ने अपने सैनिकों को वहां भेज कर 5 मोर्चों पर कब्जा जमाया और सैन्य ठिकाना बनाने का प्रयास करना शुरु किया. रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि “हुमला जिले में पीएलए सैनिकों ने बॉर्डर पार किया और लिमी घाटी व हिलसा में मौजूद पिलर को हटा दिया. इसके बाद पीएलए ने सैन्य ठिकाने बनाने की शुरुआत की.”

चीन ने बताया अफवाह

इस पूरे मामले पर चीन का कहना है कि रिपोर्ट तथ्य पर आधारित नही है. यह शुद्ध अफवाह है. चीनी अखबार द ग्लोबल टाइम्स ने 16 अक्टूबर को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा है था कि- “नेपाल में कुछ नेताओं ने चीन पर हुमला जिले की अपनी जमीन पर अतिक्रमण करने का आरोप लगाया है, जो वास्तव में चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के बुरंग काउंटी में एक नवनिर्मित गांव है.”

Also read-Now You Can Delete Messages In Bulk, WhatsApp Gets A New Feature

इतना ही नही ग्लोबल टाइम्स ने उल्टा भारत पर सारा दोष मढ़ दिया. पूरे मामले पर भारत का कोई मतलब नही था फिर भी चीन ने दोषी ठहराते हुए कहा कि भारत ने इस मामले को बढ़ावा दिया है. साथ ही कहा गया कि नेपाली विपक्षी नेताओं ने नई-दिल्ली के इशारे पर चीन पर जमीन हड़पने का आरोप लगाया है.