बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर ‘चिराग पासवान’ की स्थिति दो नावों में पैर रखने जैसी हो गई है !

बिहार चुनाव को लेकर चिराग पासवान की पार्टी लोकजनशक्ति पार्टी की स्थिति दो नावों में पैर रखने जैसी हो गई है. दरअसल लोकजनशक्ति पार्टी ने संकेत दिए हैं कि वह बिहार की 243 विधानसभा सीटों में से 143 पर अपने प्रत्याशी उतारने जा रही है. इसके अलावा संसदीय बोर्ड की हुई बैठक में चिराग पासवान ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर भड़के. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि 143 विधानसभा सीटों पर चुनाव की तैयारी करें. इन घटनाओं के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि एऩडीए में सबकुछ ठीक नही चल रहा है.

चिराग पासवान
Photo-assettype.com

चिराग पासवान 143 सीटों पर ल़ड़ेंगे चुनाव

एनडीए की घटक दल लोकजनशक्ति पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव में सीटों को लेकर कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है. पार्टी नेता चिराग पासवान द्वारा 143 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़ा करने की घोषणा के बाद एनडीए में फूट पड़ने की आशंका उत्पन्न हो गई है. माना जा रहा है कि लोजपा केवल उन्ही सीटों पर अपने उम्मीदवार नही उतारेगी जहां बीजेपी के उम्मीदवार होंगे. इसके अलावा जेडीयू से चल रहे तनातनी के बीच लोजपा उन सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़ा करेगी जहां जेडीयू के उम्मीदवार होंगे.

Also read-  Bihar election will put people in danger, chances of polling decline due to Covid19: Chirag Paswan

अमित शाह से चल रही बात अधूरी

खबर है कि राज्य संसदीय बोर्ड की बैठक होने शुरु होने से पहले चिराग पासवान ने फोन पर गृहमंत्री अमित शाह से बात की थी. हालांकि इसकी पुष्टि नही हो सकी है लेकिन माना जा रहा है कि गठबंधन को लेकर बोर्ड ने चिराग पासवान को फैसला लेने के लिए अधिकृत कर दिया है. एनडीए में रहना है या नही इसपर चिराग 15 सितंबर को पार्टी के सांसदो से सलाह-मशविरे के बाद अंतिम फैसला लेगें.

Also read- Bihar Elections: Jitan Ram Manjhi’s party says it will join NDA

नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला

एक ओर बीजेपी और जेडीयू के नेता लगातार कह रहे हैं कि बिहार में डबल इंजन की सरकार है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार औऱ उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी दोनों ही सरकार के कामकाज का जमकर बखान करते हैं तो वहीं एऩडीए के मुख्य घटक दल लोकजनशक्ति पार्टी प्रमुख चिराग पासवान लगातार सीएम नीतीश कुमार और उनकी सरकार पर हमले कर रहे हैं.

चिराग पासवान
Photo-dbnnews.in

वह आरोप लगा रहे हैं कि कोरोना महामारी औऱ बाढ़ के दौरान नीतीश सरकार पूरी तरह फेल रही है. इससे आम लोगों का जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है इसलिए उनके नेतृत्व में एक बार फिर चुनाव लड़ना एनडीए के लिए घातक हो सकता है.

माझी से भी लोजपा की नाराजगी

लोक जनशक्ति पार्टी जीतनराम माझी के एऩडीए मे शामिल होने से भी नाराज चल रही है. जीनतराम माझी और चिराग पासवान दोनो में ही इस बात की होड़ है लगी है कि बिहार का दलित नेता कौन है. माना जा रहा है कि पासवान के एनडीए से अलग होने की स्थिति में जीतनराम माझी एऩडीए में बिहार चुनाव का दलित चेहरा हों सकते हैं. एऩडीए में आते ही जीतनराम माझी ने रामविलास पासवान पर जमकर राजनीतिक हमले किए हैं.