बिहार विधानसभा चुनाव: एक ही नाम का फायदा उठा कर असली प्रत्याशी का टिकट ले भागा बीजेपी नेता !

बिहार विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे पास आ रहा है, एक से बढ़कर एक किस्से सामने आ रहे हैं. बीजेपी ने दूसरे फेज के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है. इस दौरान पटना स्थित पार्टी मुख्यालय में एक अजीबोगरीब घटना घट गई. पार्टी ने समस्तीपुर के जिला मंत्री वीरेन्द्र पासवान को रोसड़ा सीट से टिकट दिया था लेकिन बीजेपी के ही एक दूसरे नेता वीरेन्द्र पासवान ने पार्टी नेताओं को चकमा देते हुए पार्टी मुख्यालय पहुंच कर सिंबल लेने पहुंच गए. उन्होंने सिंबल ले भी लिया और नामांकन दाखिल करने भी पहुंच गए.

Photo-patrika.com

नाम का फायदा उठाकर असली प्रत्याशी का टिकट ले उड़ा बीजेपी नेता

बीजेपी बिहार विधानसभा में दूसरे फेज के लिए होने जा रहे चुनाव के मद्देनजर पार्टी ने प्रत्याशियों को सिंबल देना शुरु कर दिया है. इस दौरान एक ही नाम का फायदा उठाकर बीजेपी का एक अन्य नेता असली प्रत्याशी का सिंबल लेकर रफूचक्कर हो गया. दरअसल पार्टी ने वीरेन्द्र कुमार पासवान को रोसड़ा विधानसभा सीट से टिकट दिया था. उम्मीदवारों की सूची सोशल मीडिया पर आ गई थी लेकिन बीजेपी के ही एक अन्य नेता ने पार्टी को चकमा देते हुए असली प्रत्याशी का सिंबल लेकर भाग गया.

बताया जा रहा है कि वीरेन्द्र पासवान दरभंगा के रहने वाले हैं और असली उम्मीदवार और इनका नाम मिलता-जुलता होने के कारण वह सिंबल लेने पार्टी मुख्यालय पंहुच गए. इतना ही नही उनका चेहरा भी एक-दूसरे से काफी मिलता है. तस्वीर में स्पष्ट देखा जा सकता है. इसमें पहली तस्वीर दरभंगा वाले वीरेन्द्र पासवान की है जबकि दूसरी तस्वीर समस्तीपुर वाले वीरेन्द्र पासवान की है.

बिहार विधानसभा चुनाव
Photo-navbharattimes.indiatimes.com

सिंबल लेने के बाद वीरेन्द्र पासवान ने अपने माता-पिता का नाम भी भर लिया था. इसके साथ ही वह अपने समर्थकों के साथ रोसड़ा अनुमंडल मुख्यालय में नामांकन दाखिल करने भी पहुंच गए. इधर असली वाले वीरेन्द्र कुमार पासवान अपने समर्थकों के साथ बीजेपी मुख्यालय सिंबल लेने पहुंचे तो पता चला कि उनका सिंबल कोई और ले गया जिसके बाद उनके होश उड़ गए.

Also read-  BJP’s ‘Ee Ba Bihar’ Counter On Opposition’s ‘Ka Ba Bihar’, Bihar Polls Campaigning Turns Musical

इस घटना के बाद रोसड़ा में बीजेपी कार्यकर्ताओं का एक दल अनुमंडल कार्यालय भेजा गया. वहां दरभंगा वाले वीरेन्द्र कुमार पासवान नामांकन के लिए पहुंचे थे. इसकी जानकारी पटना में स्थित नेताओं की दी गई जिसके बाद उनका सिंबल रद्द कर दिया गया और फिर से असली वाले वीरेन्द्र कुमार पासवान को सिंबल दिया गया. कहा जा रहा है कि दरभंगा वाले वीरेन्द्र पासवान पर पार्टी ने अभी तक कोई कार्रवाई नही की है.