पाकिस्तान से नजदीकियां बढ़ाने के बाद बांग्लादेश ने ‘राममंदिर निर्माण’ को लेकर भारत को दी चेतावनी ?

भारत जहां एक ओऱ चीन से बढ़ते तनाव को दूर करने की कोशिश कर रहा है तो वहीं उसके कई पड़ोसी देश उससे दूर होते जा रहे हैं. खासकर श्रीलंका और बांग्लादेश जैसे महत्वपूर्ण पड़ोसी देशों का भारत से दूर जाना इस उपमहाद्वीप मे अस्थिरता का बड़ा कारण बन सकता है. इसके अलावा बांग्लादेश औऱ पाकिस्तान के बीच की हालिया दोस्ती भी भारत के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी कर सकती है. पाकिस्तान से नजदीकियां बढ़ाने के बाद अब बांग्लादेश भारत के आंतरिक मामलों पर भी खुलेआम बोल रहा है. अयोध्या में राममंदिर निर्माण होने जा रहा है इसको लेकर बांग्लादेश ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा है कि इससे दोनों देशों के रिश्तों में दरार आने का अंदेशा है. बांग्लादेश वैसे तो इसे भारत का अंदरुनी मामला मानता है लेकिन उसका कहना है कि राममंदिर निर्माण को लेकर बांग्लादेश में विपक्ष इसे शेख हसीना सरकार के खिलाफ राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल कह सकता है.

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना

राम मंदिर निर्माण को लेकर बांग्लादेश की भारत को चेतावनी

पाकिस्तान से बढ़ती नजदीकियों के बीच बांग्लादेश ने अब भारत के आंतरिक मामलों पर बोलना शुरु कर दिया है. अयोध्या में होने जा रहे राममंदिर के निर्माण के लिए हो रहे भूमिपूजन को देखते हुए बांग्लादेश ने कहा है कि इससे बांग्लादेश और भारत के रिश्तों में दरार आ सकती है. उधर बांग्लादेश के विदेश मंत्री अब्दुल मोमीन ने कहा कि भारत को कोई भी ऐसा काम नही करना चाहिए जिससे कि उसके और भारत के बीच कोई दरार पैदा हो.

दरअसल बांग्लादेश में राजनीतिक जानकारों को लगता है कि अगर अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण आरंभ हुआ तो बांग्लादेश में विरोधी दलों को प्रधानमंत्री शेख हसीना के खिलाफ एक नया राजनीतिक हथियार मिल जायेगा. बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि दोनों देशों मे सभी वर्ग के लोगों की यह जिम्मेदारी है कि अच्छे संबंध बरकरार रहे, क्योंकि ऐसे मामलों मे सरकारें कुछ नही कर सकतीं.

इमरान खान से हुई बातचीत को बांग्लादेश ने बताया सामान्य शिष्टाचार

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान से टेलीफोन पर हुई बातचीत को लेकर बांग्लादेश ने कहा है कि इसमें कुछ असामान्य नही है. बांग्लादेश ने फिर दोहराया की यह केवल शिष्टाचार का मसला है. बांग्लादेशी विदेश मंत्री अब्दुला मोमीन ने कहा कि अगर पाकिस्तान और बांग्लादेश ने बात कर ही लिया तो इसमें दिक्कत क्या है. खबर की मानें तो पाकिस्तान ने कहा है कि दोनों के बीच कश्मीर मामले पर बात हुई है लेकिन बांग्लादेश का कहना है कि यह बातचीत कोरोना वायरस को लेकर हुई है. कश्मीर मुद्दे पर बांग्लादेश ने अपना मौन बरकरार रखा है.

शेख हसीना और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान

चीन से उपजे तनाव के बीच भारत से दूर जा रहे पड़ोसी देश

भारत इस समय अपने पड़ोसी देशों के साथ तल्ख रिश्तों से गुजर रहा है. चीन और नेपाल से सीमा विवाद को लेकर भारत काफी दिनों से उलझा हुआ हैं तो वहीं अब उसके अन्य पड़ोसी देशों के साथ रिश्तों में भी कड़वाहट देखी जा रही है. खासकर भारत अपने सदाबहार दोस्त जैसे कि बांग्लादेश और श्रीलंका से भी दूर होता जा रहा है.

चीन ने कोरोना से निपटने के लिए श्रीलंका को मास्क, पीपीई किट और वेंटिलेटर की बड़ी मात्रा भेजी थी. और अब हाल ही में चीन ने कर्ज की एक औऱ बड़ी किश्त श्रीलंका को दी है. इसके जरिए वह श्रीलंका को अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहा है.

इतना ही बांग्लादेश में चीनी इंन्फ्रास्ट्रक्चर परियोजना को ज्यादा समर्थन मिल रहा है. खबर की माने तो भारत की आपत्ति के बावजूद बांग्लादेश ने चीनी कंपनी बीजिंग अर्बन कंस्ट्रक्शन ग्रुप को सिलहट में एयरपोर्ट टर्मिनल बनाने का कान्ट्रैक्ट दिया है. बता दें कि सिलहट भारत के उत्तर पूर्वी हिस्से से लगता हुआ संवेदनशील इलाका है.