एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत से अपना बोरिया-बिस्तर समेट लिया है..जानिए क्या रही वजह !

मानवाधिकारों के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लड़ने वाली संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में अपना बोरिया-बिस्तर समेटने का फैसला किया है. संस्था ने आरोप लगाया है कि केन्द्र की मोदी सरकार उसके पीछे पड़ी है. सरकार ने उसके सारे बैंक खाते सीज कर दिए गए ऐसे में संस्था को अपने कर्मचारियों को निकालना पड़ रहा है इसीलिए संस्था भारत में अपना संचालन बंद करने जा रही है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल
Photo-navbharattimes.indiatimes.com

एमनेस्टी इंटरनेशनल भारत में अपना संचालन बंद करेगी

एमनेस्टी ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि ”10 सितंबर को एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया को पता चला कि ईडी ने उसके सारे बैंक  खातों को फ्रीज कर दिया है, जिससे मानवाधिकार संस्था के अधिकतर काम ठप्प हो गए हैं.’’  संस्था ने आगे कहा- ”ये मानवाधिकार संगठनों के खिलाफ भारत सरकार की ओर से बेबुनियाद और खास मकसद से लगाए गए आरोपों के आधार पर चलाए जा रहे अभियान की एक ताजा कड़ी है.’’

यह भी पढ़ें-  एनकाउंटर पर क्या कहता रहा है मानवाधिकार? विकास दूबे के मामले में दखल देने की मांग

एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर अविनाश खन्ना ने कहा- ”बीते 2 साल से एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है औऱ अब बैंक खाते फ्रीज दुर्घटनावश नही हुए हैं. ईडी सहित सरकारी एजेंसियां लगातार उत्पीड़न कर रहे हैं. दिल्ली दंगों और जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकारों का जिस तरह से उल्लंघन हुआ, उसके लिए सरकार और दिल्ली पुलिस की जवाबदेही तय करने की मांग का यह नतीजा है. हम सिर्फ अन्याय के खिलाफ अपनी आवाज उठा रहे हैं और यह असंतोष को दबाने की कोशिश है.’’

सरकार ने आरोपों से इंकार किया

एमनेस्टी इंटरनेशनल द्वारा सरकार पर लगाए गए आरोपों पर सरकार ने जवाब देते हुए कहा है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल को गैरकानूनी रुप से विदेशी फंडिंग मिलती है जबकि यह संस्था फॉरेन कंट्रीब्यूशन एक्ट के तहत रजिस्टर ही नही है. सरकारी अधिकारियों का कहना है कि ईडी एमनेस्टी इंटरनेशनल को मिलने वाले विदेशी फंड की जांच कर रही है. आरोप है कि एमनेस्टी को FDI के जरिए पैसा मिलता है, जिसकी मंजूरी नही है.

Also read- India feels ‘Proud’ to Support US Proposal on the ‘Universal Declaration of Human Rights’

बता दें कि इससे पहले 2017 में भी ईडी ने एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के एकाउंट का फ्रीज कर दिए थे. हालांकि एमनेस्टी ने कोर्ट में अपील की थी जिसके बाद उनके खातों पर लगी रोक हटा ली गई थी. इसके अलावा एमनेस्टी को एफडीआई के द्वारा ब्रिटेन से कथित तौर पर मिले 10 करोड़ रुपये की सीबीआई जांच चल रही है.