यूपी में दरिंदगी की हदें पार, दो नई घटनायें आयीं सामने

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में थाना मानिकपुर इलाके के सरैया चौकी के एक गांव से गैंगरेप का एक और मामला सामने आया है। 8 अक्टूबर को 14 साल की पीड़िता के साथ तीन लोगों ने गैंगरेप किया। परिवार ने सरैया चौकी में शिकायत भी की। पुलिस ने न तो कोई रिपोर्ट लिखी और न ही लड़की का मेडिकल कराया। घर पर अकेली पीड़िता ने घटना के 6वें दिन फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

गैंगरेप की पुष्टि नहीं हुई।

सीओ रजनीश यादव ने बताया है कि एससी-एसटी एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है लेकिन अभी गैंगरेप की पुष्टि नहीं हुई है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

एसिड फेंकने का दूसरा गंभीर केस

गोंडा में तीन दलित बहनों पर सोमवार देर रात में एसिड फेंकने की वारदात सामने आई है। बहने सोयी हुई थीं जब उन पर एसिड फेंका गया। बड़ी बहन का चेहरा बुरी तरह झुलस गया है जब की छोटी बहनो पर छीटें आयी हैं। तीनों बहनों को अस्पताल में एडमिट कराया है। बताया जा रहा है कि बड़ी लड़की की सगाई इसी महीने की 23 अक्टूबर को होने वाली थी।

रोते हुए पिता ने यह भी कहा, ”जब बेटी को गोद में उठाया तो पता चला तेजाब डाला गया है। 10 दिन बाद बड़ी बेटी की सगाई होनी थी। जब लड़कियां चिल्लाई तो भागकर ऊपर गए। हमने तड़पती बिटिया को गोद में ले लिया। तब मेरी बनियान भी गलकर गिरने लगी, तब समझ आया कि तेजाब डाल दिया। लखनऊ से बड़ी बिटिया की शादी तय किए थे। 23 अक्टूबर को सगाई होनी थी। सब बर्बाद हो गया है। गांव में हमारी किसी से रंजिश नहीं है।”