गेहूं के बाद अब भारत ने 1 जून से चीनी के निर्यात पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने चीनी के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया जो 1 जून से लागू होने जा रहा है।

विदेश व्यापार महानिदेशालय द्वारा मंगलवार को अधिसूचना जारी की गई। जिसमें कहा गया है कि प्रतिबंध “चीनी की घरेलू उपलब्धता और मूल्य स्थिरता बनाए रखने के लिए” लगाया गया है, हालांकि ये प्रतिबंध यूरोपीय संघ और अमेरिका को सीएक्सएल कोटा और ट्रैफिक रेट कोटा (टीआरक्यू) के तहत निर्यात की जा रही चीनी पर लागू नहीं होंगे। .

प्रतिबंध 1 जून, 2022 से 31 अक्टूबर, 2022 तक या अगले आदेश तक लागू रहेंगे, इस बीच निर्यातकों को चीनी निदेशालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक मंत्रालय से विशिष्ट अनुमति लेनी होगी। ऐसा विशेष रूप से अधिसूचना में उल्लेख किया गया है।

भारत दुनिया के सबसे बड़े चीनी उत्पादकों में से एक है और ब्राजील के बाद दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक है। हालांकि ब्राजील में चीनी उत्पादन और उच्च तेल की कीमतें ब्राजील के लोगों को अधिक गन्ना आधारित इथेनॉल का उत्पादन करने और वैश्विक मूल्य लाभ को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

इस बीच मंगलवार को चीनी निर्यात प्रतिबंध के बाद दोपहर के सत्र में चीनी का स्टॉक गिरकर 14 प्रतिशत पर आ गया। हालांकि सबसे ज्यादा नुकशान वाले श्री रेणुका शुगर्स थे। मिड कैप के बाद बीएसई पर शेयर 48.05 रुपये के पिछले बंद के मुकाबले 13.84 प्रतिशत गिरकर 41.4 रुपये पर आ गया।