प्रधानमंत्री मोदी के LAC से लेकर LOC तक वाले बयान पर कांग्रेस ने साधा निशाना, कहा प्रधानमंत्री कुछ और रक्षामंत्री कुछ कहते हैं..!

अंतर्ऱाष्ट्रीय सीमाओं पर जारी तनाव औऱ पड़ोसी देशों से चल रही अनबन के बीच भारत ने अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस बड़े ही धूमधाम से मनाया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाल किले से देश को संबोधित करते हुए कहा कि LAC  से लेकर LOC तक भारत की संप्रभुता पर जिस किसी देश ने आंख उठाई है हमारे देश की सेना और वीर जवानों ने उन्हें उन्ही की भाषा में जवाब दिया है. हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान किसी भी देश का नाम नही लिया लेकिन उनका इशारा पाकिस्तान द्वारा एलओसी पर चलाए जा रहे आतंकवाद औऱ चीन द्वारा एलएसी पर घुसपैठ को लेकर था. पीएम मोदी के इस बयान पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि ‘’सिर्फ बोलना काफी नही है.’’

कांग्रेस नेता अहमद पटेल

पीएम मोदी ने कहा LAC  से लेकर  LOC तक सेना ने दिया मुहं तोड़ जवाब

देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश की सेना औऱ वीर जवानों ने LAC  से लेकर LOC तक देश की तरफ आंख उठाने वालों को करारा जवाब दिया है. उन्होंने किसी भी देश का नाम लिए बगैर कहा कि देश के लिए हमारे जवान क्या कर सकते हैं यह दुनिया ने लद्दाख में देख लिया है. उन्होंने कहा देश की संप्रभुता हमारे लिए सर्वोच्च है और जिसने भी सीमा पर सौहार्द और भाई चारा बिगाड़ने की कोशिश की है उसे मुंह तोड़ जवाब दिया गया है.

कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा प्रधानमंत्री कुछ कहते हैं रक्षामंत्री कुछ कहते हैं

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लाल किले से दिए गए LAC हो या LOC वाले बयान पर कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद अहमद पटेल ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि सिर्फ बोलना काफी नही है. अगर सेना ने जवाब दिया है तो हमें खुशी होगी. एएनआई से बात करते हुए अहमद पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री जो भी कहें उस पर विश्वास नही करना चाहिए. प्रधानमंत्री वास्तविकता से वाकिफ हैं और वास्तविकता ठीक नही है. अगर चीनी सैनिकों ने हमारे क्षेत्र में प्रवेश किया तो प्रधानमंत्री कुछ कह रहे हैं औऱ रक्षामंत्री कुछ कह रहे हैं.

मार्केंडेय काटजू का बयान ऐसी आजादी से क्या लाभ

जहां एक ओर देश 74वें स्वतंत्रता दिवस को बड़े ही धूमधाम से मना रहा है तो वहीं सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज मार्केंडेय काटजू ने ट्वीट कर स्वतंत्रता दिवस के जश्न पर सवाल पूछा है. उन्होंने कहा कि-

”वास्तव मे स्वतंत्रता दिवस तब आयेगा जब गरीबी, बेरोजगारी, भुखमरी, शिक्षा औऱ स्वास्थ्य में कमी, भ्रष्टाचार अल्पसंख्यकों के खिलाफ जुल्म इत्यादि चीजें खत्म हो जायेगीं. बिना इसके स्वतंत्रता का कोई महत्व नही है.”

उधर जानीमानी लेखिका अरुंधति राय ने भी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा यह सरकार बहुमत ओढ़े अत्याचारी अल्पसंख्यक है. राय ने कहा की यह सरकार संविधान को ताक पर रखकर आजादी का जश्न मना रही है. आगे उन्होंने कहा कि भारत के बहुसंख्यक में यहां की जाति प्रथा शामिल है और इसमें भी अपर कॉस्ट का एक अल्पसंख्यक वर्ग सबकुछ अपने नियंत्रण में लिये हुए है.