अपहृत बच्ची को बचाने के लिए ललितपुर से भोपाल नॉनस्टॉप दौड़ी ट्रेन, पूरा मामला जानकर यकीन नही होगा

रेलवे के इतिहास मे एक अनोखा मामला सामने आया है. उत्तरप्रदेश में एक 3 साल की बच्ची को बचाने के लिए ट्रेन को ललितपुर से भोपाल तक नॉनस्टाप दौड़ाया गया. इस दौरान बीच में पड़ने वाले किसी भी स्टेशन पर ट्रेन नही रुकी. वह सीधे भोपाल स्टेशन पहुंचने के बाद ही रुकी. भोपाल पहुंचते ही बच्ची को बचा लिया गया साथ ही अपरहणकर्ता को भी धरदबोचा गया. दरअसल यह पूरा मामला ही रोंगटे खड़ा करने वाला है. आइए बताते हैं क्या है पूरी घटना.

नॉन-स्टॉप दौड़ी ट्रेन
Photo-youtube.com

मासूम बच्ची को बचाने के लिए नॉन-स्टाप दौड़ी ट्रेन

मामला ललितपुर रेलवे स्टेशन का है. स्टेशन पर एक 3 साल की बच्ची का अपहरण हो गया. अपहरणकर्ता बच्ची को गोद मे लेकर भोपाल की ओर जा रही राप्तीसागर एक्सप्रेस मे सवार हो गया. मामले का पता तब चला जब अपहृत बच्ची के परिजन बदहवास हालत में ललितपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे. परिजनों ने रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ से शिकायत की. उन्होंने बताया कि उनकी बच्ची रेलवे स्टेशन से गायब हो गई है. इसके बाद हरकत में आए जवानों ने खोजबीन शुरु की.

आरपीएफ ने स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से आरोपी का पता लगाने का प्रयास किया. तभी एक तस्वीर दिखाई दी जिसमें एक युवक 3 साल की बच्ची को गोद में लेकर ट्रेन में सवार होता हुआ दिखाई दिया. जब तक आरपीएफ कुछ समझ पाती पता चला कि अपहरणकर्ता बच्ची को लेकर ट्रेन से फरार हो गया है. मामले की जानकारी होने पर झांसी स्थित आरपीएफ के इंस्पेक्टर ने ऑपरेंटिंग कंट्रोल भोपाल को पूरे मामले की जानकारी दी. उन्होंने अनुरोध किया कि राप्तीसागर एक्सप्रेस को ललितपुर से लेकर भोपाल तक किसी भी स्टेशन पर न रोका जाए.

नॉनस्टॉप चली ट्रेन

आरपीएफ के सब-इंस्पेक्टर के अनुरोध पर ऑपरेटिंग कंट्रोल भोपाल ने राप्तीसागर को ललितपुर से लेकर भोपाल तक नॉन-स्टॉप चलाया. ट्रेन को नॉन-स्टॉप चलाने की वजह यह थी कि मासूम को लेकर किडनैपर कहीं उतर न जाए. इस दौरान भोपाल रेलवे स्टेशन पर अपहरणकर्ता को पकड़ने के लिए ट्रेन का बेसब्री से इंतजार हो रहा था. जैसे ही ट्रेन भोपाल रेलवे स्टेशन पर पहुंची मौके पर पहले से ही मौजूद आरपीएफ के अफसरों ने अपहरणकर्ता को बच्ची समेत एक बोगी से खोज निकाला. बच्ची को सकुशल बरामद कर परिजनों को सौंप दिया गया. इसके साथ ही अपहरणकर्ता को भी गिरफ्तार कर लिया गया.

Also read-  #AgeIsJustANumber Meet Rockstar Dancer Dadi, Ravi Bala Sharma, Who Is Trending For Her Moves

उधर इस घटना के बाद आरपीएफ के सब-इंस्पेक्टर रविंद्र सिंह राजावत की सूझबूझ और सजगता की चारों तरफ चर्चा हो रही है. इंडियन रेलवे के लिए भी यह पहला मौका है जब अपहरणकर्ता के चंगुल से किसी को छुड़ाने के लिए ट्रेन को नॉन-स्टॉप दौड़ाया गया.