26/11 हमले का मास्टरमाइंड साजिद मीर पाकिस्तान में गिरफ्तार, कभी पाकिस्तान ने किया था मारे जाने का दावा

पाकिस्तान के लश्कर-ए-तैयबा के एक आतंकी साजिद मीर को हिरासत में लेने की खबर आ रही है, आतंकी साजिद मीर 2008 के मुंबई हमलों की योजना बनाने का मुख्य अभियुक्त था। हैरानी की बात यह है कि पाकिस्तान उसके अस्तित्व को नकार चूका है और उसने यहां तक कहा था ​​कि वह मारा गया था।

अमेरिका और भारत दस साल से अधिक समय से मीर की तलाश कर रहे थे। मीर नवंबर 2008 के आतंकी समूह का हिस्सा था, जब 10 लोगों के एक समूह ने मुंबई में कई साइटों पर समन्वित हमले किए थे। आतंकी हमले के 170 पीड़ितों में छह अमेरिकी शामिल थे, जो विभिन्न राष्ट्रीयताओं के थे।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार मीर के बारे में नई जानकारी तब सामने आई जब प्रमुख पश्चिमी देशों ने लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी की मौत का सबूत देने के लिए इस्लामाबाद पर पर्याप्त दबाव डाला।

निक्केई एशिया के अनुसार, आतंकवाद का समर्थन करने के लिए फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स के वैश्विक रडार से खुद को हटवाने का पाकिस्तान का दृढ़ संकल्प इस मामले के निष्कर्ष के लिए उत्प्रेरक प्रतीत होता है।

प्रधानमंत्री इमरान खान की हाल ही में उखाड़ी गई सरकार में पाकिस्तान के पूर्व वित्त मंत्री के रूप में कार्य करते हुए पिछले तीन वर्षों से अंतरराष्ट्रीय प्रहरी के साथ बातचीत की देखरेख करने वाले हम्माद अजहर ने मीडिया आउटलेट को बताया कि पाकिस्तान ने मीर और अन्य आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई की थी जो एफएटीएफ के लिए ” संतोषजनक ” थी।

पाकिस्तान को टास्क फोर्स की ग्रे लिस्ट में रखा गया है, जिसे गैर-अनुपालन वाले देशों को ट्रैक और अलग करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

हिंदुस्तान टाइम्स ने एक व्यक्ति का हवाला देते हुए कहा,“मीर की कथित गिरफ्तारी और सजा मुंबई हमलों के पीड़ितों के लिए न्याय पाने के अंतिम लक्ष्य की पूर्ति नहीं करती है। और उसकी मौत और जिंदा होने का खेल उन सामान्य चालों की तरह है जिसे हमने अतीत में अनेक बार पाकिस्तानी सरकार खेलते देखा है। ”