आजाद बोले चुनाव का विरोध करने वालों को पद खोने का डर

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने फिर एक बार कांग्रेस वर्किंग कमेटी और संगठन के महत्वपूर्ण पदों पर चुनाव करवाने पर जोर दिया है। बीते दिनों आजाद समेत 23 वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर कांग्रेस के प्रमुख पदों सहित ऊपर से जमीनी स्तर तक बदलाव करने की मांग की थी।

वहीं 3 दिन पहले हुई कांग्रेस की बैठक में आजाद और राहुल गांधी में तकरार की खबरें भी सामने आई थीं जिसके बाद अब गुलाम नबी आजाद ने साफ शब्दों में कहा कि वफादार होने का दावा करने वाले ओछी राजनीति कर रहे और जो लोग चुनाव करवाने का विरोध कर रहे हैं, उन्हें अपने पद खोने का डर है।

आजाद ने अपनी मांग के समर्थन में कहा कि आंतरिक चुनाव में 51% वोट मिलने वाले की जीत होती है इसका साफ मतलब है कि पार्टी के 51% लोगों का समर्थन आपके साथ है और गौर करने वाली बात यह है की वर्किंग कमेटी के सदस्य अगर चुनाव से तय होंगे तो उन्हें हटाया नहीं जा सकता तो ऐसे में किसी को क्या परेशानी हो सकती है।

गौर करने वाली बात यह है कि आजाद का बयान कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग के 3 दिन बाद आया है। सीडब्ल्यूसी की सोमवार को हुई मीटिंग में ये रिजॉल्यूशन पास किया गया था कि जब तक ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी का सेशन बुलाने की स्थितियां नहीं बनें सोनिया गांधी तब तक आप ही अंतरिम अध्यक्ष बनी रहें।